Join Telegram Group (18k members) यहाँ क्लिक करें और जुड़िये
Instagram @reet.bser2022 अभी फॉलो कीजिए

सामाजिक विज्ञान नोट्स -रीट 2022 – मंदिरों की शैलियाँ

प्रतिहार शैली

  • 8 से 10 वी शताब्दी तक इस शैली का सर्वाधिक मंदिरों का निर्माण कराया गया था ।
  • इस काल को सांस्कृतिक दृष्टि से सुवर्ण काल भी कहा जाता हैं ।
  • दक्षिण पश्चिम राजस्थान में इस शैली से जुड़े सर्वाधिक मंदिरों का निर्माण करवाया ।
  • ये गुजरात की सोलंकी ( मारू शैली ) से प्रभावित रही ।
  • प्रतिहारों द्वारा जालोर , जोधपुर , मेड़ता नागोर, आभानेरी ओर बंधीकुई , चित्तोडगढ़ , बांसवाड़ा , डूंगरपुर , उदयपुर में जो शैली विकसित की गई । वो महमरु शैली कहलाई ।
  • इसके प्रमुख मंदिर निम्न हें –
    • महावीर जी का मंदिर – ओसिया जोधपुर – 8 वि शताब्दी में वतसराज द्वारा निर्मित ये महावीर जी के ज्ञात मंदिरों में प्राचीन मंदिर माना जाता हैं ।
    • जैन अंबिका मंदिर – घटियावल जोधपुर – इसका निर्माण 861 में कुककुक के द्वारा करवाया गया था ।
    • जगत अंबिका का मंदिर – उदयपुर – अल्हट के द्वारा
    • हर्षद मत का मंदिर – आभानेरी दौसा – यहाँ की चंद बावड़ी प्रसिद्ध हैं ।
    • कालिका मत का मंदिर – ये चित्तोडगढ़ में हैं ।
    • अथुना मत का मदिर – बांसवाड़ा में हैं
    • देवसोमनाथ का मंदिर – डूंगरपुर
    • सहस्त्र बाहु का मंदिर – उदयपुर

पंचायतन शैली

  • राजस्थान के इसे मंदिर जहां की 5 देवताओ की पूजा की जाती हैं जिनमे शिव , विष्णु , शक्ति , सूर्य ओर गणेश की पूजा की जाती हैं ।
  • पंचायतन शैली के मंदिर –
    • हरिहर मंदिर – जोधपूर
    • सात सहेलियों का मंदिर – झलरापाटन
    • जगदीश जी का मंदिर – उदयपुर
    • भंड देवरा का मंदिर – बारा

एकाइतन शैली

  • राजस्थान के इसे मंदिर जहां पर एक ही देवता की पूजा की जाती हैं । वहाँ एक गर्भगृह सभा मण्डल तथा एक द्वारा मण्डल हो , वह मंदिर एकाइतन शैली के माने जाते हैं ।
  • जैन समाज के अधिकांश मंदिर इसी शैली के बाने होते हैं ।
  • जैनियों के प्रसिद्ध मंदिर पालि ओर सिरोही में हैं ।
  • पाली का प्रसिद्ध मंदिर – रणकपुर ओर सिरोही का – देलवाड़ा मंदिर ।

नागर शैली के मंदिर

  • इस शैली के मंदिर उच्च शिखर के बाने होते हैं ।
  • इस शैली के मंदिर अधिकतर भारत के उत्तरी भाग ओर राजस्थान के मारवाड़ क्षेत्र में बाने हुए हीं ।
  • इसको आर्य शैली के मंदिरों के नेम से भी जाना जाता हैं ।
  • इस शैली के मंदिरों की सूची –
    • समिदवेश्वर मंदिर , चित्तोडगढ़
    • बाडोली का शिव मंदिर – चित्तोडगढ़
    • किराडू मंदिर , बाड़मेर । ये मंदिर प्रतिहारों में आखिरी निर्मित मंदिर माना जाता हैं । इस कारण ये भी प्रतिहार शैली में बना हुआ हैं।

द्रविड शैली

  • इस शैली के मंदिर पिरिमिडिय आकृति के बने होते हैं ।
  • इनका ऊपरी सिर गजप्रष्ट कहलाता हैं।
  • राजस्थान का सबसे बाद मंदिर रंगनाथ जी का मंदिर जो की पुष्कर में स्थित हैं , इसी शैली मे बना हुआ हैं ।
  • इस शैली के मंदिर दक्षिण भारत में सर्वाधिक हैं।

वेसर शैली

  • ये शैली नागर ओर द्रविड शैली की मिश्रित शैली हैं ।
  • इस शैली के मंदिर मध्य भारत में बाने हुए हैं ।
  • इनका निर्माण चालुक्य शासको द्वारा हुआ हैं । इस कारण इनको चालुक्य शैली का मंदिर भी कहा जाता हैं।
  • चालुक्य शैली पर द्रविड शैली का प्रभाव ज्यादा रहा था । इस कारण कर्नाटक में भी सर्वाधिक पाए जाते हैं ।

Read notes now

आमेर के राजा

Give samajik test

  1. samajik test 1
  2. samajik test 2
  3. samajik test 2
  4. samajik test 4
  5. samajik test 5
  6. samajik test 6
  7. samajik test 7
  8. samajik test 8
  9. samajik test 9
  10. samajik test 10
  11. samajik test 11
  12. samajik test 12
  13. samajik test 13
  14. samajik test 14
  15. samajik test 15
  16. samajik test 16
  17. samajik test 17
  18. samajik test 18
  19. samajik test 19
  20. samajik test 20
  21. samajik test 21
  22. samajik test 22
  23. samajik test 23
  24. samajik test 24
  25. samajik test 25
  26. samajik test 26
  27. samajik test 27
  28. samajik test 28
  29. samajik test 29
  30. samajik test 30

Download our apps

Download now