Join Telegram Group (18k members) यहाँ क्लिक करें और जुड़िये
Instagram @reet.bser2022 अभी फॉलो कीजिए

सामाजिक विज्ञान नोट्स -रीट 2022 -आमेर के शासक

ईश्वरी सिंह

  • सवाई जय सिंह का पुत्र था ।
  • राजमहल का युद्ध – 1747 में ईश्वरी सिंह ओर माधोसिंह के मध्य लड़ गया । इस युद्ध मे विजय के बाद ईश्वरी सिंह में जयपुर में “सरगा सूली ” का निर्माण करवाया जिसे “इसरलट” भी कहते हैं ।
  • बगरु का युद्ध – माधोसिंह ओर ईश्वरी सिंह के मध्य के बीच लड़ गया । इस युद्ध के बाद मराठा मल्हार राव दोनों भी के बीच संधि कारवाई थी । इसके बदले मल्हार राव होल्कर को 10 लाख रुपए देना टी किया ।
  • ईश्वरी सिंह ये धन देने में असमर्थ रहा । इसलिए ईश्वरी सिंह ने होकर से परेशान हो कर 1750 में “सरगासूली” पर पर जाकर आत्महत्या कर ली ।

माधोसिंह

  • ये सवाई जयसिंह का पुत्र था ।
  • माधोसिंह द्वारा मराठाओ को एक चौथाई भाग राजस्व दिया जाना टी किया । जिस कारण सभी कछवाहा शासक माधोसिंह से नाराज हो गए।
  • मल्हार राव होल्कर ” जेयप्पा संध्या ” के नेत्रत्व में 4000 मराठा सैनिकों को जयपुर में दुर्ग ओर मंदिर के दर्शनर्थ भेज । उस समय माधोसिंह के द्वारा जयपुर नगर के सारे दरवाजे बंद करवा दिए गए । ओर मराठाओ पर आक्रमण कर दिया था । जिसके बाद 70 मराठा सैनिक मारे गए थे ।
  • भटवाड़ा युद्ध – माधो सिंह ओर शत्रुषाल । इसमे शत्रुषाल विजयी रहा ।
  • माधोसिंह के द्वारा नाहरगढ़ दुर्ग में अपनी 9 पासवान प्रेमिका के लिए एक जैसे 9 महल बनाए गए ।
  • माधोसिंह द्वारा शील की डूंगरी चाकसू में शीतल मंदिर का निर्माण करवाया था ।

सवाई प्रताप सिंह

  • ये माधोसिंह का छोटा पुत्र था ।
  • प्रताप सिंह स्वयं को गोविंद देव जी को दीवान मानता था । इसलिए अपने हर वचन के पहले “श्री गोविंद वचनार्थ ” कहता था ।
  • तुंगा युद्ध — इसमे सवाई प्रताप सिंह विजयी रहा ।
  • सवाई प्रताप सिंह स्वयं खुद ब्रिजनिधि कविताओ की रचना करता था । जबकि भरतपुर का शासक बदनसिंघ भरतपुर का शासक बदनसिंघ ब्रिजराज के नाम से रचना करता था ।
  • सवाई प्रताप सिंह ने जयपुर में संगीत सम्मेलन का आयोजन कर दिया था । ओर राधा गोविंद संगीत सागर की रचना की थी ।
  • सवाई प्रताप सिंह की रचनाओ का संग्रह “ब्रिजनिधि ग्रंथावली ” के नाम से जाना जाता हैं ।
  • सवाई प्रताप सिंह की रचना – प्रताप चंद्रिका ओर राधा गोविंद
  • सवाई प्रताप सिंह ने अपने दरबार में विभिन्न विषयों की “बाईसी ” बनवाई थी । जिसे गंधर्व बाईसी के नेम से जाना जाता हैं ।
  • 1793 में चित्रकार साहिबराम के द्वारा सवाई प्रतापसिंह का आदमकद चित्र बनाने की परंपरा प्रारंभ की थी ।
  • साहिबरम के द्वारा हि सबसे पहले राजस्थान मे सबसे पहले आदमकद चित्र ईश्वरी सिंह का बनाया था ।
  • 1799 में हवामहल का निर्माण करवाया था । जिसके वास्तुकार ललचंद , इसमे 953 खिड़कियां हैं । ओर ये 5 मंजिल का हैं ।

सवाई जगतसिंह

  • ये प्रताप सिंह का पुत्र था ।
  • घिनघोली का युद्ध 1807 में लड़ गया था । जिसमे जगतसिंह जीत ।
  • सवाई जगतसिंह ही आमेर का वह शासक हैं जिसने 1818 में East India company से संधि कर ली थी ।
  • इसके द्वारा “चितेरों की ओबरी ” नामक विद्यालय बनवाया गया ।
  • सवाई जगतसिंह ने ब्रिजबीहरी मंदिर का निर्माण करवाया था ।

राम सिंह द्वितीय

  • जयसिंह तृतीय का पुत्र था ।
  • अंग्रेजों ने इसे सितार -ए – हिन्द की उपाधि दी थी । क्योंकि इसने 1857 की क्रांति में अंग्रेजों की हेल्प की थी ।
  • अंग्रेजों ने कोटपुतली परगना इनाम में दिया था ।
  • रामसिंह द्वितीय के द्वारा महाराजा कॉलेज का निर्माण करवाया था ।
  • रामसिंह द्वितीय के द्वारा संस्कृत महाविध्यालय का निर्माण करवाया था ।
  • रामसिंह द्वितीय के द्वारा ही संस्कृत भाषा को सर्वाधिक बढ़ावा दिया गाया था।
  • रामसिंह द्वितीय के द्वारा ही “महाराज स्कूल ऑफ आर्ट ” के नाम से जाना जाता हैं ।
  • राजस्थान में “पॉटरी कला ” को लाने का श्रेय भी इनको जाता हैं ।
  • रामसिंह द्वितीय द्वारा ब्लैक , सुनहरी , ओर कागजी पॉटरी लाई गई ।
  • रामसिंह द्वितीय ने जयपुर में रामप्रकाश नाट्य शाला का निर्माण करवाया ।
  • रामसिंह द्वितीय ने रांनीवास बाग का निर्माण करवाया।
  • रामसिंह द्वितीय राजस्थान के एकमात्र एसे शासक थे जो की ” बाजदारी ” के शौकीन थे।
  • राज्य मे पतंगबाजी को लाने का श्रेय भी इनको जाता हैं ।
  • रामसिंह द्वितीय में ही लार्ड माओ ने 1870 ने जयपुर व अजमेर की यात्रा थी ।
  • 1875 में “मेव कॉलेज ” की स्थापना अजमेर में की ।
  • रामसिंह द्वितीय के शासन काल में 1876 में ब्रिटिश राजकुमार प्रिंस अल्बर्ट जयपुर आया था । इसकी याद में रामसिंह ने अल्बर्ट हाल बनवाया था । इसका उद्घाटन 1887 में सर एडवर्ड द्वारा किया गया था ।
  • इसका वास्तुकार – स्वीडन जेकब था ।
  • रामसिंह द्वितीय ने प्रिंस अल्बर्ट के स्वागत में पूरे जयपुर शहर को गेरुए रंग में पुटवा दिया था । इस कारण इसको पिंक सिटी भी कहा जाता हैं । जयपुर को Pink City स्टैन्डरि ने अपनी किताब The royal town of India में कहा था।

माधोसिंह द्वितीय

  • रत्नसिंह द्वितीय का दत्तक पुत्र था।
  • माधोसिंह के द्वारा City Palace के सबसे बड़े चांदी के बर्तन का निर्माण करवाया था ।
  • माधो सिंह मालवीय ने पीड़ित मदन मोहन मालवीय को द्वितीय 5 लाख का अनुदान bhu के लिए दिया ।

मनसिंह द्वितीय

  • इसरदास स्वाइ सिंह का पुत्र था । जिसे माधो सिंह द्वितय द्वारा गोद लेकर उत्तराधिकारी घोसीत किया गया था ।
  • इसके शासन काल में 1942 में राजस्व मण्डल की स्थपना की ।
  • मन सिंह द्वितीय का प्रधान मंत्री मिर्जा स्माइल था । इन्ही के शासन काल में हिरालाल शास्त्री तथा मिर्जा स्माइल के मध्य “Gentleman’s Agreement” हुआ था।
  • मानसिंह द्वितीय के नाम पर ही Sms अस्पताल ओर sms स्टेडियम का नामकरण किया गया था ।
  • राजस्थान एकीकरण के समय सवाई मनसिंह ही जयपुर के शासक था ।
  • 30 मार्च 1949 को वृहद राजस्थान का विलय कर दिया गया था । ओर मानसिंह द्वितीय को राजपुरोहित बना दिया गया । जो इस पद पर 1 नोवेम्बर 1956 तक रहा ।
  • 1 नोवेम्बर को राजप्रमुख के स्थान पर राज्यपाल का पद सृजित किया गया ।
  • राजस्थान के प्रथम राजस्थान – “गुरमुख निहाल सिंह ”
  • मानसिंह द्वितीय , पोलो के अच्छे खिलाड़ी थे ; सर्वप्रथम पोलो टीम को विदेश ले जाने वालों सवाई मनसिंह मानसिंह द्वितीय ही थे।
  • जयपुर को पोलो का मक्का कहा जाता हैं ।

Read notes now

आमेर के राजा

Give samajik test

  1. samajik test 1
  2. samajik test 2
  3. samajik test 2
  4. samajik test 4
  5. samajik test 5
  6. samajik test 6
  7. samajik test 7
  8. samajik test 8
  9. samajik test 9
  10. samajik test 10
  11. samajik test 11
  12. samajik test 12
  13. samajik test 13
  14. samajik test 14
  15. samajik test 15
  16. samajik test 16
  17. samajik test 17
  18. samajik test 18
  19. samajik test 19
  20. samajik test 20
  21. samajik test 21
  22. samajik test 22
  23. samajik test 23
  24. samajik test 24
  25. samajik test 25
  26. samajik test 26
  27. samajik test 27
  28. samajik test 28
  29. samajik test 29
  30. samajik test 30

Download our apps

Download now