Join Telegram Group (18k members) यहाँ क्लिक करें और जुड़िये
Instagram @reet.bser2022 अभी फॉलो कीजिए

Science test 100– ISRO Special

Check your knowledge now

हम उम्मीद करते हैं कि Science ISRO SPECIAL टेस्ट आपके लिए मददगार साबित होंगे। यदि आपके पास राजस्थान बोर्ड आरबीएसई Science ISRO Special के बारे में कोई प्रश्न है, तो नीचे एक comment करें और हम जल्द से जल्द आपसे संपर्क करेंगे।

avinashmodi test science

Isro based quiz

1. isro का पूरा नाम क्या हैं

 
 
 
 

2. भारत में अंतरिक्ष कार्यक्रमों का संस्थापक जनक माना जाता है।

 
 
 
 

3. इसरो का गठन

 
 
 
 

4. राकेट/ प्रमोचन यान———में बनाए जाते हैं।

 
 
 
 

5. रॉकेट प्रक्षेपण के लिए थुंबा का चुनाव क्यों किया गया ।

 
 
 
 

6. पहला रॉकेट कब प्रमोचित किया गया।

 
 
 
 

7. इसरो के कितने केंद्र हैं ?

 
 
 
 

8. भारत का पहला प्रमोचन यान को नाम

 
 
 
 

9. भारतीय भूमि से प्रक्षेपित सबसे भारी उपग्रह कोनस हैं

 
 
 
 

10. इनमे से चंद्रमा की क्या खास बात हैं

 
 
 
 

Read the questions now

  • इसरो का पूरा नाम है भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन।
  • डॉ.विक्रम ए. साराभाई को भारत में अंतरिक्ष कार्यक्रमों का संस्थापक जनक माना जाता है।
  • इसरो का गठन 15 अगस्त, 1969 को हुआ था।
  • अंतरिक्ष विभाग (अं.वि.) और अंतरिक्ष आयोग को सन् 1972 में स्‍थापित किया गया। 01 जून, 1972 में इसरो को अंतरिक्ष विभाग के अंदर शामिल किया गया।
  • इसरो का प्रमुख उद्देश्य अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी का विकास तथा विभिन्न राष्ट्रीय आवश्यकताओं में उनका उपयोग करना है।
  • इसरो ने दो प्रमुख अंतरिक्ष प्रणालियों की स्थापना की है, संचार, दूरदर्शन प्रसारण तथा मौसम-विज्ञान सेवाओं के लिए इन्सैट, और संसाधन मॉनिटरन और प्रबंधन के लिए भारतीय सुदूर संवेदन उपग्रह (आईआरएस) प्रणाली। इसरो ने अभीष्ट कक्ष में इन्सैट और आईआरएस की स्थापना के लिए दो उपग्रह प्रमोचन यान, पीएसएलवी और जीएसएलवी विकसित किए हैं।
  • उपग्रहों को इसरो उपग्रह केंद्र (आईजैक) में बनाया जाता है।
  • राकेट/ प्रमोचन यान विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र (वीएसएससी), तिरुवनंतपुरम में बनाए जाते हैं।
  • इसरो की प्रमोचन सुविधा एसडीएससी शार में स्थित है, जहाँ से प्रमोचन यानों और परिज्ञापीराकेटों का प्रमोचन किया जाता है। तिरुवनंतपुरम स्थित टर्ल्स से भी परिज्ञापीराकेटों का प्रमोचन किया जाता है।
  • आप राष्ट्रीय सुदूर संवेदन केंद्र (एनआरएससी), हैदराबाद से आँकड़े प्राप्त कर सकते हैं। अधिक जानकारी के लिए वेबसाइट: www.nrsc.gov.in देखें।
  • भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम का प्रारंभ तिरुवनंतपुरम के निकट थुम्बाभूमध्यरेखीयराकेट प्रमोचन केंद्र (टर्ल्स) में हुआ।
  • पृथ्वी की भू-चुंबकीय भूमध्यरेखा थुम्बा से हो कर गुज़रती है।
  • पहला रॉकेट, नैकी-अपाची, संयुक्त राष्ट्र अमेरिका से प्राप्त किया गया था, जिसे 21 नवंबर, 1963 को प्रमोचित किया गया।
  • भारत का पहला स्वदेशी परिज्ञापी राकेट, आरएच-75, 20 नवंबर, 1967 में प्रमोचित किया गया।
  • देश भर में इसरो छह प्रमुख केंद्र तथा कई अन्य इकाइयाँ, एजेंसी, सुविधाएँ और प्रयोगशालाएँ स्थापित हैं।
  • भारत का पहला प्रमोचन यान को नाम उपग्रह प्रमोचन यान-3 (एसएलवी-3) था।
  • चंद्रमा पर तापमान चरम सीमाओं पर पहुँच जाता है – सूरज की रोशनी में प्रकाशित चंद्रमा का पहलू लगभग 130 ºसें तक झुलसाने जितना गरम हो जाता है, और रात में यही पहलू -180 ºसें. पर अत्यधिक ठंडा हो जाता है।
  • अभी तक किसी भी चंद्र मिशन ने चंद्रमा पर जीवन की उपस्थिति का कोई संकेत नहीं दिया है।

Science test Now on Website

Class 7 Science test

Class 8 science tests

Class 9 Science tests

Psychology All test links

Class 10 Science tests

Read Science notes now

Please click the link below to read science notes available on website .

Click here to read

Download apps from Play store

Click here to explore

Purchase Notes Psychology in 50 rupee

Click here to purchase now